Search This Blog

Monday, 9 February 2015

शिलान्यास का पत्थर

निकल कर  कोख से वो आसमान नापता है,
अभिमान की खुमारी में वो देखो कैसे हांकता  है,
चलने वाले भी बहुत हैं उसके पीछे पीछे,
दिखा कर दर्द खुशियों के वो सपने बांटता है ,
दाग लगते ही  नहीं उसका श्वेत लिबास है,
मिलता है झुक कर,वाणी में मिठास है ,
देती हैं गालियां ,टूटी सड़कें ,नालियां ,
शिलान्यास का पत्थर ही इनका विकास है....