Search This Blog

Friday, 26 October 2012

रावन

वो तो एक रावन था,
सचमुच बड़ा ही ज़ालिम था,
किन्तु परम ज्ञानी था,
हाँ बहुत अभिमानी था,
अभिमान था उसे
अपनी शक्ति पर

अपनी भक्ति पर,
अपनी एक गलती पर
राम के हाथों मारा गया,
फिर हर वर्ष जलाया गया,
आज कितने ही रावन हैं,
न शक्ति है
न भक्ति है
न ज्ञान है
परन्तु बड़ा अभिमान है,
हे राम...वो तो एक था,
और वो भी मर गया.....