Search This Blog

Wednesday, 31 October 2012

आज चौक फैजाबाद से गुज़रने का मौका मिला,भारी भीड़ में जो कुछ भी देखने को मिला सचमुच भयावह था, "कल चमन था आज एक सेहरा हुआ देखते ही देखते ये क्या हुआ............." गीत की पंक्तियाँ याद आ रही थी,मायूश दुकानदार अपनी अपनी दुकानों का मलबा बाहर निकाल रहे थे तो कोई सन्न मरे हाथ बंधे अपनी दूकान के आगे बैठा था। ये वही  चौक था जहाँ न जाने कितने ही धार्मिक आयोजन होते ही रहते हैं और कभी भी धार्मिक उन्माद देखने को नहीं मिला।. बड़े दुकानदारों के पास मान लो कुछ पूँजी तो होगी ही,पर उनका क्या जो छोटी सी तनख्वाह पर उन दुकानों पर काम करते थे और परिवार की गाड़ी चलाते थे ,उन पर तो मानो समस्याओं का पहाड़ टूट पड़ा। सबसे ज्यादा असर आने वाले समय पर पर पड़ेगा,क्योंकि नफरत का जो सर्प ज़हर उगल कर चला गया है,उसकी लकीर को पीट कर अपनी सियासी रोटियां सेकने  वालों की कमी नहीं है, वे लोग बार बार सामान्य हो रहे हालात पर सन्देह का पर्दा डालने की कोशिश करते रहेंगे। कुछ भी हो एक सभ्य समाज के लिए इस तरह की घटनाएँ निंदनीय हैं।