Search This Blog

Thursday, 11 August 2016

खेल मौत का मौत से पहले रुकता नहीं है

डर ये कैसा? धधक रहा खलिहान तो क्या?
बारूदों के बीज उगाये तुमने ही थे ,
जवां फसल तैयार है आग दूर से सेंको,
न रोको अब खाक की हद तक जल जाने दो,
कि खेल मौत का, मौत से पहले रुकता नहीं.....
अनिल