Search This Blog

Monday, 26 November 2012

बंधन

आवरण चहुँ  ओर का,
क्यों बांधता है मुझे,
क्यों घेरता है मुझे,
सीमित दायरों  के 
बन्धनों में,
और समय के 
साथ साथ 
मेरे देश के ,
मेरे धर्म के ,
मेरी जाति  के ,
मेरे कर्म के ,
बन्धनो में 
जकड़ता जाता है,
ये बंधन जो पोषक है,
नफरतों का,द्वेष का,
विभाजित परिवेश का ,
जो बांटता है,
खुदा से भगवान् को,
इंसान से इंसान को,
इस जमीं
और आसमान को,
काश मेरा स्वप्न भी
साकार हो ,
सार्वभौमिक समग्र
संसार हो,

पंख फैलें जब कभी
उड़ान को,
न कहीं कोई भी
दीवार हो।