Search This Blog

Saturday, 3 November 2012

सातवाँ सिलेण्डर

सात समुंदर पार करके  सात फेरे लेने के बाद सातवें सिलेण्डर ने सातों आसमान दिखा दिए हैं,याद करके किसी बड़े माफिया द्वारा  जान से मारने  की दी जाने वाली धमकी भी कमजोर लगती है,ऊपर से KYC का भूत बाहें फैलाये खड़ा है, मैं भी हाल जानने के लिए जब तीन घंटे लाइन  में लगने के बाद पहुंचा तो मेरे हिस्से के सारे सिलेण्डर लाइन लगा कर मेरा मजाक उड़ाने की फिराक में खड़े थे, सबसे पहला सिलेण्डर अपनी गोल गोल आँखें मटकाते हुए मुझसे पूंछता है,क्यों राजा,KYC हो चुकी है,या ऐसे ही ...मैंने बड़े अपराध भाव से सिर हिलाया ,दूसरा सिलेण्डर पहले के पीछे खड़ा था इसलिए पहले को खोद खोद कर मेरा मजाक उड़ाने को उकसा रहा था, इतने में तीसरा तपाक से बोला,सुनिए......अब आप मुझे अपनी किचन के साफ़ सुथरे हिस्से में ही रखेंगे,पहले की तरह अपनी खटारा कार की डिक्की धक्के खाने के लिए नहीं रख पाएंगे। मुझे अपनी कंजूसी और मजबूरी पर बहुत शर्म आ रही थी।जेब में हाथ डाले आस पास देखने लगा तो चौथे ने भी मिलकर हँसना शरू कर दिया,मैंने पांचवे से कहा,तुम बड़े शरीफ लग रहे हो, चुप चाप जो खड़े हो, तब वह बोला की मैं बाल बाल बच  गया ,बस एक नंबर से...नहीं तो छठा सिलेण्डर बन जाता। मैं कुछ समझ पाता  इससे पहले मेरी नज़र छठे सिलेण्डर पर पड़ी ,वह बेचारा दीन  हीन दशा में खड़ा था, हाथ जोड़कर मेरे सामने खड़ा होकर बोला,मैं अभागा सबसे ज्यादा मारा और गरियाया जाऊँगा,मेरा जब और तब दम घोटा जाएगा, मैंने उसे भरोसा दिलाया की कसम छठे सिलेण्डर की तुम्हें उलट पुलट कर काम चलाएंगे पर तुम्हें नहीं मरने देंगे,इतना सुनकर वो और जोर जोर से रोने लगा,उतने में मैंने देखा की अपनी कालर कड़ी किये सातवाँ सिलेंडर मुझे घूर घूर कर देख रहा था,उसका चेहरा देखने लायक था,लग रहा था की जय पाल  रेड्डी से उसकी तगड़ी जान पहचान  है,उसका रोब दाब  जेल में बंद माफिया से कम नहीं था,उसके लिए स्पेशल A C ,नौकर चाकर सभी  दिव्य व्यवस्थाएं  थी,मैंने मन में ठान लिया लिया कि  तुमको अपने घर नहीं ले जाऊँगा, मैं चुप चाप लौटने लगा तो सातवाँ सिलेण्डर मझे धमकाते हुए दहाड़ कर चुनौतीपूर्ण लहजे में बोला,मुझसे बच  नहीं सकते, मैं तुम्हारी पेंट और जेब दोनों ढीली कर दूंगा...याद रखना मैं सातवाँ सिलेण्डर हूँ  ...............