Search This Blog

Tuesday, 17 March 2015

मेरे हाथों की मेहंदी की गुज़ारिश है ,
तुम अपनी चौखट फूंलों से सजा लेना
दरों दीवारों को स्याह रंगवा देना,
मैंने आँचल में सितारे जड़ा रखे हैं ,
नमी वाली रात- रानी की खुशबू में
यूँ महसूस का सकूँ मैं अपने चाँद को ,
छू लेने को बेताब नरम हथेलियों   से ,
....जिसे अब तलक बस दूर से देखा है .......

अनिल कुमार सिंह