Search This Blog

Wednesday, 20 January 2016

बेजान मुहब्बत

सूखे पत्तों को छू कर,
फिसलती हैं बूंदे भी
बारिश में भी बेजान
नहीं भीगने वाले,
न बरसाओ यहाँ और
मुहब्बत की बरसातें
आँखों की नदी लेकर
कहीं दूर बरसते हैं.....

अनिल कुमार सिंह