Search This Blog

Sunday, 13 March 2016

तेरी यादों को पीने की आदत सी हो गई

छिपाए फिरते हैं इक नशे को ज़माने से ,
मेरी ज़िंदगी भी जैसे सियासत सी हो गई,
तेरी खुशबू मेरी रूह में शामिल है हरदम,
तेरी यादों को पीने की आदत सी हो गई............
अनिल