Search This Blog

Sunday, 13 March 2016

नारी शक्ति "ये सदी हमारी है"

टाँक दो नभ के सितारे आज अपने आँचल में ,
उतार दो इन बादलों को आज अपने काजल में ,
आज हमने हौसलों के पंख हैं लगा लिए,
गगनचुंभी पर्वतों ने शीश हैं झुका लिए ,
रूढ़ियों के पत्थरों को पिघलाने की तैयारी है,
नारी शक्ति की हुंकार है "ये सदी हमारी है" ! ये सदी हमारी है !

अनिल कुमार सिंह...