Search This Blog

Saturday, 4 July 2015

राख़ होने से पहले कुछ हवा दे दो ,
ज़िंदगी को मुहब्बत की दवा दे दो ,
आईने मुद्दतों से यूं ही उदास बैठे हैं ,
हो सके तो इन्हें अपनी अदा दे दो ।
anil