Search This Blog

Saturday, 25 July 2015

दुःखद

गिर न जाए वो कहीं जीवन डगर से ,
भागते देखा जिसे अपने ही घर से ,
यह सोच कर ,वो लौट के न आएगी ,
कि गिर चुकी है अब वो दुनियाँ की नज़र से ,
------------
आज के अखबार में ये छपा है
एक पिता ने अपनी पुत्री का वध किया है ......
अनिल