Search This Blog

Friday, 28 August 2015

गर दे तो जख्म दे कि मेरे हौसले बढ़ें

ऐ जमाने तूँ मुझे हौसले न दे ,
गर दे तो जख्म दे कि मेरे हौसले बढ़ें,
दूर ही सही मंज़िलों के वो निशां ,
मुझसे नज़र मिलें तो खुद मजिलें चलें ।
अनिल