Search This Blog

Saturday, 19 December 2015

तुझे नेता बनना .........

मचा बवाल ,
कुछ कर कमाल,
ज़ोर शोर से झूठ बोल,
सिलवा ले खद्दर का खोल
तुझे नेता बनना........
बेजह नाच
कर भीड़ बढ़ा
भले आँगन टेढ़ा ,
दो चार मरें
या दबे कुचले ,
क्या बिगड़े तेरा ,
बस घड़ियाली आँसू को बहा ,
तुझे नेता बनना .......
जेल बेल
सत्ता के खेल
इनसे नहीं डरना ,
गर मिले मुफ्त में
गाली भी
तो ले लेना ,
रख स्याही ,
थप्पड़ की भी आस ,
तुझे नेता बनना .........
अनिल कुमार सिंह