Search This Blog

Friday, 25 December 2015

एक पत्थर और मारो .........

चल रहा गति में वो अपनी,
छिद्र से छिप कर निहारो,
ज़ख़्मों के ईंधन से चलता,
एक पत्थर और मारो ।

जो तपा झंझावातों में,
दम रहा उसकी बातों में ,
आँधियाँ रुक मार्ग देती ,
रुका नहीं काली रातों में ,
उसको जो चाहे पुकारो ,
एक पत्थर और मारो ,

रास्ते के पत्थरों को,
तराशता निर्बाध निर्झर,
शूल खुद राहें दिखाते,
सत्य पर रहता जो निर्भर,
सत्य की सूरत सँवारो ,
एक पत्थर और मारो .........

अनिल कुमार सिंह