Search This Blog

Saturday, 19 December 2015

हम इतने सहिष्णु भी नहीं

हे ज्ञानी कवि !
इतना सूक्ष्म भी न लिखो
कि हवा हो जाए,
इतना स्थूल भी न लिखो
कि दिमाग की परतों
की बारीक सलवटों में
घुसने भी न पाये ,
तुम्हारा लिखा
तुम ही न समझ पाओ,
ऐसा ज़ुल्म भी न करो ,
हे ज्ञानी कवि !
कुछ दया करो ,
हमारे अल्प ज्ञान पर ......
..........................
..........................
हम इतने सहिष्णु भी नहीं ................

अनिल कुमार सिंह