Search This Blog

Sunday, 31 July 2016

संभल कर चलना आ गया

क्या हुआ, कुछ ठोकरें ही तो मिली थी भीड़ में,
बिल्कुल अकेले भी संभल कर चलना आ गया .
अनिल