Search This Blog

Sunday, 31 July 2016

मुझको जीने की चाह दे जाओ

दो घड़ी मेरे पास आ जाओ ,
फिर ख्याल और ख्वाब हो जाओ,
इक लम्हें में उम्र गुजरेगी,
मुझको जीने की चाह दे जाओ....
अनिल