Search This Blog

Sunday, 31 July 2016

मैं इश्क हूँ

मैं इश्क हूँ, हवाओं में बसर करता हूं,
सांस के साथ ही सीने में उतर जाऊंगा....
मैं बादलों के साथ,आसमां में बहता हूँ ,
तुम जहां मुझको पुकारोगे बरस जाऊंगा ...
बनके खुशबू तुम्हारे आस पास रहता हूँ,
तुम जरा पास बुला लो तो बिखर जाऊंगा.....
अनिल..